555 views

सड़कें जन-जातीय क्षेत्रों की जीवन रेखा का कार्य करती है: ठाकुर सिहं भरमौरी

शिमला। जन-जातीय क्षेत्र पांगी घाटी के पांच दिवसीय प्रवास के दौरान ठाकुर सिहं भरमौरी, वन एवं मत्स्य मन्त्री हिमाचल प्रदेश ने आज लुज एवं धरवास पंचायतों का दौरा किया। इस दौरान धरवास पंचायत में सिंचाई एवं जनसवास्थय विभाग के विश्राम गृह में जन समस्याओं को सुनते समय श्री भरमौरी ने कहा कि जन जातीय क्षेत्रों में सड़कें जीवन रेखा की तरह होती हैं। उन्होंने यह भी बताया कि इस वर्ष लगभग 1.15 करोड रू0 इन पंचायतों की सड़कों के निर्माण एवं रख-रखाव पर खर्च किए जांएगें, जिसमें तेजू-गोह सड़क कार्य शामिल है। श्री भरमौरी ने कहा कि मुख्यमंत्री वीरभद्र सिहं के नेतृत्व में प्रदेश सरकार लोगों के चहुंमुखी विकास के लिए कृत संकल्पित है। उन्होंने कहा कि दूरदराज के क्षेत्रों को अच्छी सड़कों एवं मार्गाें द्वारा जोडना प्रदेश सरकार की प्राथमिकता में शामिल है।
इससे पहले उन्होंने लुज पंचायत का भी दौरा किया एवं जन समस्याओं को सुना। उन्होंने स्थानीय लोगों को पौधे लगाने के लिए भी प्रेरित किया। उन्होंने कहा कि उनके पूर्वजों ने यह कार्य बहुत बखुबी से किया था तथा आज इसी वजह से हम लोगों को इमारती लकडी, पशुओं को चारा एवं औषधीय पौधें मिल रहे हैं। उनके अनुसार यदि भविषय की पीढ़ियों को भी यह सुविधाएंे तभी मिल पाऐंगी, जब आज की पीढ़ि पौधरोपण जैसे कार्य करेगी। टी. डी. की समस्या का मौके पर ही समाधान करते हुए उन्होंने वन विभाग के अधिकारियों को आदेश दिए कि वे जल्द से जल्द कानून के अनुसार लोगों को टी. डी. उपलब्ध करवाऐं।
इस अवसर पर हिमाचल प्रदेश वन निगम के निदेशक सुभाष चैहान, नील चन्द पूर्व उपाध्यक्ष पंचायत समीति कैलाड, प्रेम लाल उप-प्रधान धरवास पंचायत सहित एस.डी.एम पांगी, डी.एफ.ओ पांगी, अधिशाषी अभियन्ता लोक निर्माण विभाग पांगी तथा विभिन्न विभागों के अधिकारी व कर्मचारी शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!