पांवटा में नये राजनीतिक नेता के लिए बिछने लगी बिसात

पांवटा साहिब (विक्रमादित्य)। सवा तीन साल के लम्बे अंतराल से पहले से ही इस बार पांवटा विधान सभा के लिए राजनीतिक उठा पटक शुरू हो गई है जबकि 13वीं विधान सभा में विस क्षेत्र में काबिज नेता के खिलाफ चुनाव से करीब डेढ़ साल पहले ही राजनीतिक चक्रव्यूह की रचना हुई थी। इस लिहाज से पांवटा विस क्षेत्र में 14वीं विधान के चुनाव से सवा तीन साल पहले ही अंदर खाते बिछाई जा रही राजनीतिक बिसात ने यह संकेत देने शुरू कर दिये हैं पांवटा विस में सबकुछ ठीक नहीं है जिससे सबक लेते हुए बीते सप्ताह पांवटा भाजपा ने सदस्यता अभियान हेतु नई पनीरी रोपने की कवायद भी शुरू कर दी है। इधर छनकर आ रही खबरों के मुताबिक करीब 3 पार्षद, 8 उपप्रधान, 5 प्रधान, 4 लम्बरदार, 3 मोर्चा प्रमुख, संगठन के कुछ पदाधिकारी, 2 सामाजिक संगठन सरकार से खफा चल रहे हैं जिन्होंने 14वीं विधान सभा चुनाव के लिए अभी से यानि अगामी चुनाव के सवा तीन वर्ष पूर्व ही पांवटा विस हेतु नये नेता के लिए जोड़तोड़ शुरू कर दिया है। लोगों के मुताबिक ठेकेदारों और चापलूसों से सरकार घिरी हुई है तथा तीन सिपहसलारों के कारण पार्टी के पदाधिकारियों, अल्पसंख्यकों एवं जमीन से जुडे कार्यकर्ताओं की लगातार उपेक्षा की जा रही है। नाराज चल रहे लोगों के मुताबिक अब उनके फोन तक नहीं उठाए जा रहे हैं यानि पूर्व विधायक और वर्तमान विधायक तकरीबन एक ही राह पर आ चुके हैं जिससे ऊबकर लोगों ने नये विकल्प की बुनियाद खोदनी शुरू कर दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!