अ‘धर्म’ की ‘जमात’ के कितने गुनहगार?

करोना बम्ब से केन्द्र व राज्य सरकारों के फूले हाथ-पांव

पूरी दुनिया में कोरोना का कहर है, भारत में भी तमाम राज्य लगातार अपने अपने नागरिकों का जान बचाने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा रही हैं लेकिन दिल्ली के निजामुद्दीन में एक हजार से अधिक विदेशियों तथा देश के करीब 10 राज्यों से सैकड़ों की तादाद में धर्म के नाम पर चोरी छुपे जुटाई गई भीड़ की लापरवाही या करोना बम्ब समूचे देश के लिए खतरनाक साबित हो सकता है। लेकिन इससे भी ज्यादा परेशान करने वाली बात ये है कि ऐसा ही एक मामला महाराष्ट्र में भी अभी-अभी सामने आया है। जानकारी के मुताबिक महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में एक मस्जिद में 10 विदेशी नागरिकों को छुपाकर रखा गया। देश में प्रतिबंध के बावजूद यहां विदेश से आए लोगों को मस्जिद में छुपाकर रखा गया। अतः सवाल लाजमी है कि इसके जिम्मेदार कौन?


इधर केंद्रीय गृह मंत्रालय ने तबलीगी जमात से जुड़े 16 देशों के करीब 1200 विदेशियों में से 1050 को ब्लैकलिस्ट करने के फैसले के साथ संबंधितों एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिये जा चुके हैं। सूत्रों के मुताबिक वीजा नियमों के उल्लंघन के कारण उनको ब्लैकलिस्ट किया जाएगा। ये सभी दक्षिणी दिल्ली स्थित निजामुद्दीन इलाके में हाल में आयोजिक धार्मिक कार्यक्रम में शिरकत करने गए थे। सिर्फ इतना ही नहीं, तबलीगी जमात के कार्यक्रम में देश के करीब 10 राज्यों के लोग बड़ी संख्या में शामिल हुए थे। इनमें से कई कोरोना वायरस संक्रमण के शिकार हुए और उन्होंने बाद में दूसरों की जिंदगियों को भी संकट में डाल दिया है जिसके बाद केन्द्र सरकार के साथ-साथ 10 राज्यों की सरकार के हाथ-पैर फूल गए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!