15 से खुलेंगे धीरे-धीरे बाजार और संस्थान?

पढ़ेंः क्या है खुलने वाला और किस पर जड़ा रह सकता है ताला

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नाॅन-हाॅटस्पाॅट क्षेत्रों में धीरे-धीरे विभागों को खोलने के संकेत दिये हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे क्षेत्र जो हाॅटस्पाॅट नहीं है, उन्हें धीरे-धीरे खोलने की योजना बनाई जानी चाहिए। मंत्रिपरिषद की बैठक को संबोधित करते हुए, पीएम मोदी ने संकेत दिया कि लाॅकडाउन खोलने के लिए एक क्रमिक शुरुआत की जाएगी।


ज्ञात हो कि प्रधानमंत्री द्वारा घोषित तीन सप्ताह का लाॅकडाउन 14 अप्रैल को समाप्त हो रहा है। प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के एक बयान में कहा गया है कि जहां हाॅटस्पाॅट्स नहीं हैं, वहां धीरे-धीरे विभागों को खोलने के लिए एक योजना बनाई जाए। उन्होंने आगे कहा कि यह संकट चिकित्सा क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनने का अवसर प्रदान करता है।


अर्थव्यवस्था पर कोविड-19 के प्रभाव के बारे में, प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार को इस प्रभाव को कम करने के लिए युद्ध स्तर पर काम करना होगा, और इसके लिए मंत्रालयों को व्यापार की निरंतरता बनाने के लिए योजना तैयार करनी चाहिए।


उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित करना भी महत्वपूर्ण है कि पीडीएस केंद्रों पर भीड़ न हो, प्रभावी निगरानी बनी रहे, शिकायतों पर कार्रवाई हो और कालाबाजारी को रोका जा सके। प्रधानमंत्री ने कहा कि सरकार किसानों को कटाई के मौसम में हर संभव सहायता प्रदान करेगी।


क्या है खुलने वाला और किस पर जड़ा रहेगा ताला और क्या है सरकार की तैयारी?
केन्द्र सरकार के सलाह के मुताबिक राज्य सरकारें ऐसे क्षेत्र जो हाॅटस्पाॅट नहीं है, उन्हें धीरे-धीरे खोलने की ओर कदम बढ़ा सकतीं हैं।
1) सूत्रों के मुताबिक सिनेमा, खेल प्रतिस्पर्धाओं एवं हर प्रकार के सामूहिक आयोजनों (भीड़) पर प्रतिबंध बरकरार!
2) स्कूल-काॅलेजों को 1 से 2 माह के लिए अभी और किया जा सकता हैं बंद! फंसे हुए लोगों को मिल सकती है तरजीह।
3) हाॅस्पीटल, मेडिकल स्टोर, बैंक, एटीएम, दूध, अंडा, ब्रेड, राशन, सब्जी पर कोई पाबंदी नहीं!
4) बाजार, निर्माण कार्य, उद्योग एवं विभागों को सोशल डिस्टेसिंग व सैनीटाइज का पालन करते हुए 4 से 6 घंटे की अवधि के लिए खुले रखने व काम करने के लिए मिल सकती है अनुमति!

5) कर्ज अदायगी, ईएमआई, ब्याज, कर अदायगी पर अवधि बढ़ाकर दी जा सकती है राहत!
6) यातायात के लिए रेल एवं सीमित परिवहन सेवाएं सीमित दायरे में सुरक्षा उपायों के तहत ही की जा सकती हैं बहाल!
7) निजी वाहनों पर सोशल डिस्टेसिंग की अनिवार्यता के साथ आवागमन पर नहीं होगी कोई पाबंदी।
8) घरेलू हवाई सेवाएं की जा सकती हैं शुरू; चुनिंदा अन्तर्राष्ट्रीय उड़ानों पर भी विचार संभव!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!