पांवटा में कौन कहां से मार रहा है बाजी? ( पढ़े:- हिम उजाला एक्जिट पोल 2021)

प्रतिद्वंदियों के पास सुखराम चौधरी के मैनेजमेन्ट का कोई तोड़ नहीं, पांवटा MC फिर भाजपा के कब्जे में

पांवटा साहिब (विक्रमादित्य)। नगर पालिका के मतदान की तिथि जैसे-जैसे नजदीक आती जा रही है वैसे-वैसे उम्मीदवारों की धुकधुकी बढ़ती जा रही है। कोई अपने पक्ष में प्रतिद्वंदी को मनाने में लगा है तो कोई खरीद-फरोक्त व दंड-भेद के सहारे चुनावी वैतरणी पार करने में जुटा हुआ है।
कुलमिलाकर हर कोई चुनाव निशान आबंटन से पूर्व अपने पक्ष में भारी जनमत और समर्थन जुटाने में जहां एड़ी चोटी का जोर लगाए हुए है वहीं सुरुआती सर्वे में भाजपा बाजी मारती दिख रही है। सर्वे के मुताबिक इस बार पांवटा नगर पालिका सभागार में भाजपा समर्थित 8 से 9, कांग्रेस 3 से 4 तथा आजाद 1 से 2 पार्षद पद पर कब्जा जमा सकती है।
किस वार्ड से कौन सा उम्मीदवार बाजी मार रहा है……


पाठकों को बता दें कि भाजपा में चुनावी मैनेजेमेन्ट स्वयं स्थानीय विधायक एवं प्रदेश ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी ने संभाल रखा है। चुनावी मैनेजमेन्ट में पूरे जिले में सुखराम चौधरी का तोड़ विरोधी दल के पास नहीं है। इसके अलावा सूबे में जय राम सरकार की कार्यशैली और उपलब्धियों की जनता कायल है यही कारण है कि जनता के बीच में एक बार फिर जय राम सरकार का नारा गूंजायमान है। अतः जनता नहीं चाहती कि सरकार के विपक्ष का पार्षद चुना जाए क्योंकि इससे उनके वार्ड के विकास के कार्य थम जाते है और वार्ड वासियों को पांच साल समस्याओं से जूझना पड़ता है। यही कारण है कि पांवटा साहिब के अधिकतर वार्ड के निवासियों ने इस बार भाजपा उम्मीदवार को जिताने का मन चुनाव चिन्ह आबंटन से पूर्व ही बना लिया है।


यहां पर दो वार्डों में रोचक मुकाबला देखने योग्य होगा जिसमें वार्ड नं.10 में त्रिकोणीय मुकाबला होना लगभग तय है वहीं दूसरा मुकाबला वार्ड नं.8 में इस बार चौधरी कुलवन्त सिंह और संजय सिंघल के बीच होने के प्रबल आसार थे परन्तु चौधरी कुलवन्त सिंह के द्वारा ऐन वख्त में कदम पीछे हटाने के बाद यह मुकाबला एक बार फिर से किस्मत के धनी संजय सिंघल के पाले में जाता नजर आ रहा है।


वार्ड नं. 1, 3, 6 व 13 से भाजपा उम्मीदवारों का झंडा अभी से बंुलद दिखाई दे रहा है। इसके अलावा वार्ड नं. 4 व 5 में कांग्रेस की दावेदारी जहां मजबूत हो रही है वहीं वार्ड नं. 2, 7, 9, 11, व 12 में मामला फिफ्टी-फिफ्टी की तर्ज पर चुनावी ऊंट किसी भी करवंट बैठ सकता है। शेष विस्तार से सटीक चुनावी बुलेटिन के लिए हिम उजाला नव वर्ष का अगामी अंक 01 पढ़े।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!